मूल के साप्ताहिक बाजार और मटन मार्केट के लोकार्पण कार्यक्रम के समय मूल का दो नंबरी बदनाम दल्ला तीन तिकडम कर शासकीय अधिकारियों की निगाहों में अपनी दुकानदारी चमकाये रखने पालकमंत्री के कार्यक्रमों में सभामंचों पर आगेपिछे दिखाई देनेकी चालमे कामयाब रहा ❓

35

  • मूल शहर मे और पूरे जिलेभरमें इतना ही नही तो महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई के मंत्रालय तक दो नंबरी दलाली के ट्रांसफर , प्रमोशन के और अवैध कामो के शराब , प्रतिबंधित गुटका , खर्रा वालों , नकली गुटका खर्रा वालों के अवैध कामों उनसे लांखों सुतने वाला , उनके अवैध कामोके हप्ते भ्र्ष्टाचार के गर्त में डूबे अधिकारियों तक पहोचने वाला
    उसी तरह विगत कुछ माह पूर्व एक शासकीय अधिकारी को उसकी पसंद के जिलेमें में ट्रांसफर करवाने कइयों मर्तबा उस अधिकारी को साथ लेकर हवाई जहाज से ( उसी अधिकारी के रूपयोंसे ) बदली करवाने के सिलसिले में मुंबई जानेआने वाला , और बदली मुहमांगी जगह करवा देनेके नामपर उस अधिकारी से १५ लाख ₹( पंद्रह लाख रुपये ) बटोरकर मुंबई के कुछ लालची अधिकारियों को थूक पॉलिश चटाकर अपने दो नंबरी कामोमे उनकी मदत लेकर लांखों का डल्ला मारनेवाला , विगत समय भाजपा के ही मनीष टेकचंद मूलचंदानी की भारत राईस मिल को झूठी साजिशें रचकर प्रदूषण के नामपर हटवाने की साजिशें करनेवाला और शहरभरमे प्रदूषण फैलानेवाली मिलों से माल सुतनेवाला , भाजपा कार्यकर्ता स्व. दिलीप पारधी के भतीजे कुणाल पारधी की चिकन शॉप हटाने के लिये साजिशें रचनेवाला , मिनारा स्क्रेप वाले सत्तार भाई की दुकान का माल झूठी साजिशें करके नगर परिषद के जरिये जब्त करवानेवाला , उपविभागीय पुलिस अधिकारी के निकट भविष्य में रिटायर्ड होनेपर रिक्त होनेवाले मूल ऑफिस मे आने इच्छुक अधिकारी को हालहीमें लांखों सुतकर उसको भी हवाई जहाज से मुंबई दो – तीन मर्तबा लेजाकर वहाँ के कुछ अधिकारियों को माल की बंदरबांट करनेवाला , कुछ समय पश्चात रिक्त होनेवाले तहसीलदार के पदपर भी यहाँ आनेको इच्छुक महसूल विभाग के अधिकारिसे भी लांखों ऐठनेवाला
    इतनाही नही तो किसीका काम नही होनेपर भी उनसे काम करवा देनेके नामपर लिये गये लांखों रुपये नही लौटानेवाला , इतनाही नही तो लोकसभा विधानसभा चुनावमे खुदके पीछे सिंगल कार्यकर्ता , मतदाता नही होनेपरभी उम्मीदवारों को लांखों का चूना लगवाने वाला , और चुनाव प्रचारमे बोर्ड , बैनर पर्चे जगह जगह पहोचने की बजाये कार्यकर्ताओं तक पहोचने के नामपर मील हुवे लांखों रुपये दबाकर जुआ अड्डेपर लाखोंका जुआ खेलनेवाला , इतना ही नही तो , जिलापरिषद ,नगर परिषद चुनाव लडने टिकिट की इच्छुक कुछ महिलाओं से रंगरेलियां करनेवाला फिरभी इज्जतदारी की नौटंकी करनेवाला
    इतनाही नही तो हरामकी कमाई से लांखों बटोरकर नगरपरिषद से बांधकाम की परमिशन नही लेते हुवे लाखोंकी डुप्लेक्स बिल्डिंग बना लेनेवाला आज मूल शहरमे जिलेके पालकमंत्री और महाराष्ट्र के मंत्री , वने ,सांस्कृतिक कार्य , मत्स्यव्यवसाय मा .ना . श्री सुधीरभाऊ मुनगंटीवार जी के हाथों होनेवाले लोकार्पण कार्यक्रम में मंचपर आगेपिछे मंडराकर समचारोंमें , यूट्यूब न्यूजों मे अपना थोबडा दिखाकर सभी भ्र्ष्टाचार के गर्तोंमे डूबे अधिकारियोंसे अवैध व्यवसाइयोंसे माल सुतनेकी अपनी दुकानदारी चमकाएंगा और चितेगांव मे प्रतिबंधित नकली गुटका खर्रा बनानेवालेसे नकली शराब , गुटका खर्रा गडचिरोली जिलेतक पहोचाने वाले जेठया और उसके आकाओ अमोल , प्रकाश , अखिल वगैरह से हप्ता वसूली की इस दल्लेकि दुकानदारी अबाधित रहेंगी !
    आज जिस मटन मार्केट का लोकार्पण होने जा रहा है उस जगह पर कभी गंदगी का आलम था ,शहरके लावारिस कुत्ते और सुव्वर वहाँ मंडराकर गंदगी फैलाते थे बेघर कॉलनी के लोग शौच करते थे !
    २०१४ / २०१५ मे भाजपा कार्यकर्ता स्व .दिलीप पारधी , भागवत कुमरे , और एकनाथ बुरांडे ने सुधीर भाऊ मुनगंटीवार जी को साप्ताहिक बाजार के मटन मार्केट की दुर्दशा बतलाने मौकेपर लेकर गये थे !
    सुधीरजी मुनगंटीवार ने मटन मार्केट की दुर्दशा देखकर वहाँ की सुव्वरों , कुत्तो से होनेवाली स्वास्थय के लिये होनेवाली अपायकारक गंदगी को देखकर इस अद्ययावत मटन मार्केट को बनवा दिया है ,जिसका आज लोकार्पण होने जा रहा है !
    दिलीप पारधी कोरोना के काल मे काल के गाल मे समा गया ! दिलीप पारधी , भागवत कुमरे ,और एकनाथ बुरांडे की सुझबूझसे ना . श्री सुधीरजी मुनगंटीवार के नजरोंके सामने मटन मार्केट की दुर्दशा दिखाई देनेसे उन्होंने यह साफसुथरा आलीशान मटन मार्केट बनवा दिये हैं ! मूल का दल्ला जिसका कोई योगदान इस मटन मार्केट में और दूसरे विकास कामोमे नहीं है वह विनाशकारी कथित दल्ला नेता कार्यक्रममे आगेपिछे मंडराकर छक्कों की तरह अपने कुल्हे मटकाता हुवा नजर आयेग !