मूल शहर के रहदारी भरे गांधी चौक के मेन रोडके गट्टू वाले फुटपाथ पर रोडतक किराना दुकानदार नंदू बोडखे ने कब्जा जमाकर पण्डाल डालकर रास्तेतक दुकानका सामान लगाता है !

29

*उसि तरहसे दुकान के पास स्थित विद्युत विभाग के डी पर भी दुकान का सामान नारियल के बोरे वगैरह रख कर डी पी के बक्से को धक्के लगने से कई दुकानदारोंके बल्ब मशीने इन्वहर्टर फ्रिझ तक उड गये थे !डी पी पर हरदिन सामानों से भरे बोरे बक्से पटकते रहनेसे डी पी जैसे जैसे हिलती है उसे धक्का लगता है तो उस डी पी से जिनकी दुकानों एवम घरोंमे बिजली कनेक्शन जुडे है वहाँ दिनभर बिजली बंद चालू होते रहती है !*

 

मूल का गांधी चौक काफी रहदारी भरा चौक है ! यहाँ से नागपुर – गडचिरोली -चंद्रपुर – ब्रम्हपुरी – मारोडा -सोमनाथ तक बसों , ट्रेव्हलसों , ट्रकों की भारी मात्रा में रातभर आवाजाही रहती है ! टू व्हीलर्स , कारों , आटों , साइकिलों की भी भीड लगी रहती है !
इतनाही नही तो स्कूल -कालेजों में आनेजाने वाले बच्चों के अलावा पैदल राहगीरों की भी भीड हमेशा इस रास्तेपर लगी रहती है ! नंदू बोडखे के फुटपाथ पर अतिक्रमण करलेने से इनसब को मजबूरन ट्रैफिक भरे रास्तेसे आना जाना पडता है !
एक तो यह जगह रास्तेके टर्निंग पॉईंट पर होनेसे इस अतिक्रमण कर्ता के पण्डाल , और दोनों तरफ लगाये जानेवाले पर्दों के चलते बाजुसे आने जानेवाली कोईभी गाड़िया वाहन दिखाई नही देते ! जिसके चलते सोमनाथ रोडसे गुजरी के तरफसे आनेजाने वालोंको बाजुके गडचिरोली -नागपुर रोडसे आनेजाने वाली कोईभी गाड़ियाँ वाहन नजर नही आनेसे भविष्य में कोईभी बड़ा जानलेवा हादसा दुर्घटना होनेकी संभावना से इंकार नही किया जा सकता !
इतना ही नही तो नंदू बोडखे और दुकान में बैठनेवाले उसके बेटे की दबंगई तो देखो इन बाप -बेटेकी जोडीने दुकान के बगल में ही स्थित विद्युत विभाग की जो डी पी बॉक्स है उसपर भी कब्जा जमाकर उस डी पी बॉक्स के उपरभी दुकान के सामानों के बोरे तो कभी दूसरा सामान रखते हैं और उस डी पी के पास नारियल से भरे बोरे ऐसे पटकते है के वह पूरी डी पी हिल जाती है !
इस डी पि से सैकडों लोगोंके घरों -दुकानों में बिजली सप्लाई दी गई है ! इस दुकानदार की करतूतों के चलते डी पी के हिल जानेसे विगत समय उसी लाइनके मोबाईल शॉप वाले राहुल की दुकान की मशीन और बल्ब फ्यूज हो गये थे ! नागरेचा की दुकानके कई बल्ब फ्यूज हो गये थे ! निलेष बोडखे की दुकान के भी बल्ब वगैरा खराब हो गये थे ! इतना ही नही तो उसी डी पी से अशरफ मिस्त्री के घरमे बिजली सप्लाई होनेसे उनके घरके फ्रिझ और इंव्हर्टर भी खराब हो गये थे !
इतना ही नही तो उस डी पी के पास बोडखे हमेशा नारीयल आदिके बोरे दीगर समानोंके बक्से ऐसे ज़ोरोंसे पटकता रहता है के वहांसे जिनकी दुकानों मकानों में बिजली सप्लाई है वहाँ की बिजली बल्ब आदि हमेशा लुपलुपाते रहते हैं और लाईट बंद चालू होते रहती है ! लेकिन इस शख्स पर कोई फर्क नही पडता ! लेकिन किसी दिन इस डी पी में इसकी करतूतों के चलते आग लग गई तो बडा हादसा हो सकता है आजू बाजू की और उपरकी दुकाने तो जलकर खाक हो जायेंगी और यह आग फैल गई तो बहोत बडी प्राणहानी भी होनेसे नकारा नही जा सकता ?
उस समय महाराष्ट्र राज्य विद्युत वितरण विभागके मूल के उपअभियंता श्री चौरसिया साहब ने नंदू बोडखे के खिलाफ नगर परिषद के तत्कालीन मुख्याधिकारी एवम तत्कालीन पोलिस निरीक्षक के पास लिखित शिकायत दर्ज करवाई थी ! लेकिन मूल के एक अतिचर्चित दल्ले नेता के चलते बोडखे के खिलाफ कोई कारवाही नही किये जानेसे और उस चर्चित दल्ले नेताका इसको साथ होनेसे नंदू बोडखे पिता पुत्र सरेआम कहते है हमारा कौन क्या उखाड लेंगा ?
नंदू बोडखे के इस अतिक्रमनवाले पण्डाल और दोनों तरफसे लगाये जानेवाले परदों से आजू बाजूकी दुकानदारों के कारोबार पर भी असर पड़ता है ,उनकी दुकान दब जाती है !
जिसके चलते नागरेचा बंधु ने तंग आकर मूल पोलिस स्टेशन मे बोडखे के और पासके स्वेटर बेचनेवाले ने भूषण चिमड्यालवार की बंद रहनेवाली दुकान के शटर के पाससे पूरे फुटपाथ पर अतिक्रमण करके स्वेटर गर्म कपडे बेचनेवाला दुकानका कपड़ा इस तरहसे टांगा करता है के बाजूकी नागरेचा की दुकान और मोबाईल वालेकी दुकान पूरी तरहसे दब जाती है , इन दोनोके खिलाफ लिखित शिकायत दिनांक १० – ११ – २०२३ को दर्ज करवाई है ! नागरेचा ने इस शिकायत की प्रतियाँ जिलेके पालकमंत्री नामदार सुधीर भाऊ मुनगंटीवारजी को और श्री मेश्राम साहब , प्रशाषक नगर परिषद मूल ,एवम श्री पवार साहब , मुख्याधिकारी नगर परिषद मूल को भी दी है !
क्या अबतोभी प्रशाषन जागेंगा ? और बोडखे की मुजोरी और सीनाजोरी के खिलाफ उचित कदम उठाएँगा ⁉️