आंदोलन के साठ दिन पूरे, आंदोलनकारियों ने दी चेतावनी !

30


शीघ्र दिया जाए आवासों का मालिकाना अधिकार !

नैनी, प्रयागराज। श्रमिक कॉलोनी के आवासों का मालिकाना अधिकार दिए जाने के लिए चलाए जा रहे आंदोलन के साठ दिन पूरे होने पर चेतावनी दिवस मनाया गया।
श्रमिक बस्ती समिति द्वारा चलाए जा रहे मालिकाना अधिकार आंदोलन के तहत मानस पार्क, श्रमिक बस्ती, नैनी में कॉलोनी के निवासियों की सभा हुई।
सभा के माध्यम से चेतावनी दी गई की लोगों को उनके अवासों का मालिकाना अधिकार दिया जाए। सभा को संबोधित करते हुए समिति के सचिव विनय मिश्र ने कहा कि उत्तर प्रदेश औद्योगिक श्रमिक बस्तियों के आवासों का मालिकाना अधिकार दिए जाने के लिए केंद्र सरकार ने 1978 में आदेश दिया था। लेकिन उत्तर प्रदेश श्रम विभाग आदेश का पालन नहीं कर रहा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने दिसंबर 2017 में उत्तर प्रदेश श्रम विभाग के अधिकारियों को इस संबंध में विस्तृत कार्ययोजना बनाने को कहा था। मुख्यमंत्री के आदेश के 4 साल 8 महीने बीत जाने के बावजूद आज तक कार्ययोजना नहीं बन सकी। पिछले 60 दिनों से मालिकाना अधिकार दिए जाने की मांग को लेकर आंदोलन चलाया जा रहा है, लेकिन श्रम विभाग के अधिकारी सार्थक कार्रवाई करने के बजाय गहरी नींद में सोए हुए हैं।
समिति के सचिव विनय मिश्र ने कहा है कि कहा कि संघर्ष से ही सफलता मिलेगी। उन्होंने श्रमिक बस्ती के निवासियों से कहा कि सब लोग अपनी एकता बनाए रखें और आंदोलन इसी तरह चलता रहा तो सरकार को मांगे माननी पड़ेगी।
सभा में प्रयागराज के पूर्व डीएलसी राकेश द्विवेदी के कार्यकाल में राजकीय श्रम हितकारी केंद्र नैनी में हुए घोटाले की जांच कराए जाने तथा श्रमिक बस्ती से पीएसी को हटाने की भी मांग की गई।
समिति के सचिव विनय मिश्र ने कहा कि राजकीय श्रम अधिकारी केंद्र व अन्य बच्चों के खेल मैदानो से पीएसी का अवैध कब्जा हटाया जाए अन्यथा इसके गंभीर परिणाम होंगे।
सभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि जब तक मांगे नहीं पूरी होगी आंदोलन चलता रहेगा। इस संबंध में शीघ्र ही मुख्यमंत्री, श्रम मंत्री एवं प्रमुख सचिव श्रम से मिलकर उन्हें ज्ञापन दिया जाएगा और ज्ञापन देने के पश्चात रैली, धरना, प्रदर्शन का आयोजन होगा।
कार्यक्रम में सर्वश्री नंदकिशोर मिश्र, लल्लू राय, शंकर लाल त्रिपाठी,अजमत हुसैन, राघवेंद्र सिंह गवर्नर,विजय कुमार यादव, अनेश कुमार,अनिल श्रीवास्तव, सत्येंद्र यादव, प्रकाश सिंह, गोपाल सिंह, आदि लोग उपस्थित रहे।