मूल का डी बी स्कॉड बना शो पीस

49

* नातो लुटेरे पकड़े गये और ना ही मूल शहरमे फैला हुवा इतना ही नही तो पूरे मूल तहसील में और मूल पोलिस स्टेशन के पूरे कार्यक्षेत्र में फैला हुवा प्रतिबंधित अवैध गुटका , खर्रा , नकली मीठी सुपारी , तंबाकू , माजा लाखोंमें बेचने वाले गुर्गे दिखाई नही देते है ❓ ना ही मूल के तीन सट्टाकिंगों का लाखोंका सट्टा कारोबार दिखाई देता ❓और नाही जिस्मफरोशी के सरेआम मेनरोड से सटे हुवे बिच शहरमे चलने वाले अड्डे दिखाई देते है ❓ और नाही नेतागिरी का चोला ओढ़े बैठे कथित नेता के घर चलनेवाला लाखोंका जुआ अड्डा दिखाई देता है ❓*

*मूल के श्री दिनेश गोयल की महालक्ष्मी ट्रेडिंग कंपनी के राईस मिल में दिनेश चलाख नामका शख्स ऑपरेटर का काम करता है ! उसी तरहसे अक्षय गोवर्धन नामका शख्स पूरे जिलेमें उधारी पर दिये गये माल के रुपयोंकी वसूली का काम करता है ! दिनेश गोयल का सीमेंट और हार्डवेयर का पूरे जिलेमें सप्लाई करने का होलसेलर का काम है !*
*महालक्ष्मी राईस मिल में ऑपरेटर का काम करनेवाला दिनेश चलाख और रकम वसूली का काम करनेवाला अक्षय गोवर्धन यह दोनों अपने मालक दिनेश गोयल के कहने पर दिनांक 16 मार्च 2022 को सबेरे करीब 9.30 बजे दिनेश गोयल की हीरो सुपर स्प्लेंडर मोटर सायकल क्र . MH -34 BY – 7221 से उधारी वसूली के लिये देवाडा , पोंभूर्णा , कळमना ( बल्लारशाह तहसील ) , गडचांदुर , टेका मांडवा , नांदा फाटा ,राजुरा , बल्लारपुर , चंद्रपुर और आखरी में चिचपल्ली पहोचकर वहाँ पर भी वसूली करने के बाद अपने मालक दिनेश गोयल को वहांसे रातके करीब 8.30 बजे के समय पर फोन करके जिन जिन ब्यापारीयोंने रुपया दिया था उसकी जानकारी दी और जिन ब्यापारीयोंने अगली बार देनेका कहा था वह जानकारी देकर चिचपल्लीसे मूल आने के लिये निकले !*
*मूल से करीब 6 की.मि. के दूरीपर जानारा डोनी रोड के फाटे पर नये रोड के पासमे जब यह दोनों मोटर सायकल से पहोचे तो इनके मोटर सायकल के पीछे ही सफेद रंगकी मोपेड मोटर सायकल पर मुह पर रुमाल बांधे हुवे दो लोग आये सुर एक ने इनकी मोटर सायकल के हैंडल को पकडकर हिलाया जिसकी वजहसे इनकी गाडीका बैलेंस बिगड़ गया और यह दोनों नीचे गिर पडे ! उसी समय उनमेसे एक शख्स मुह पर रुमाल बंधा हुवा और उसके हाथमे कुछ तो भी था वह इनके पास लपक पडा तब यह दोनों वहाँसे आनन फानन में दौड़ पड़े तो अक्षय गोवर्धन के हाथसे रूपयोंसे भरी बैग नीचे गिर पड़ी वह बैग उठाने जैसे ही अक्षय लपका तो उस रुमाल से चेहरा ढके हुवे अंजान हमलावर शख्स ने अपने हाथ मे पकड़कर रखी हुवी वह चीज अक्षय के ऊपर फेकि तो अक्षय के सर पर मार लगा ! जिसके चलते अक्षयवह बैग उठाये बगैर अपनी जान बचाकर दौडा तो वह नीचे रास्ते पर गिर पड़ा जिसके कारण उसे फिरसे जोरदार मार लगा ! डरके मारे अक्षय उठकर असगे भागा और वहांसे मूल की तरफ जाने वाली किसी गाडीसे मूल के लिये रवाना हो गया ! इधर उन दोनों लुटेरे हमलावरों ने नोटोंसे भरी हुवी वह बैग उठाकर वापस जानारा की तरफ उसी मोपेड से चलते बने !*
*उसके बाद दिनेश चलाख वापिस मोटर सायकल की तरफ पलटा और उसे उठाकर उसीसे मूल के लिये रवाना हो गया ! इस वारदातके समय और हमला करने और रूपयोंसे भरी बैग लेकर भाग जानेके वक्त रातके करीब 8 . 45 से 9 के बीचमे यह घटना हुई थी !*
*अक्षय गोवर्धन और दिनेश चलाख ने जगह जगह से जो उधारी के माल का रुपया वसूल किया था वह कुल टोटल रुपया 18 लाख 93 हजार 520 /₹ ( अठारह लाख त्र्यांनव हजार पांचसौ बिस रुपया था ! यह सारा रुपया वह हमलावर अपराधी लेकर भाग गये !*
*उसके बाद अक्षय गोवर्धन और दिनेश चलाख इन दोनोने मूल के उप जिला रुग्णालय में उपचार करवाया ! उसके बाद दूसरे दिन दिनांक 17 मार्च 2022 को दोपहर के 2 बजकर 44 मिनटपर 2 अज्ञात लोगोंके खिलाफ जबानी रिपोर्ट दर्ज करवाई थी !*
*तब मूल पुलिस के स्टेशन के स्टेशन डायरी पर तैनात अमलदार ने एफ आई आर क्र . 0154 भादवी कलम 394 के अनुसार गुनाह दर्ज किया था !*
*यह अचरज भरी बात है कि , लुटेरों ने इन लोगोंको दुपहिया वाहन से नीचे गिराया था और एक को किसी चिजसे फेककर मार कर जख्मी किया था फिरभी सिर्फ 394 IPC की कलम लगाई गईं ? जबके 324 और 307 IPC के तहत भी गुनाह दर्ज करना था !*
*इतनी बडी वारदात के बादभी मूल का डी बी स्कॉड हाथ पर हाथ धरे आलू छिलता हुवा बैठा रहा ?*
*उसके बाद पूरे दस महीने बीत जानेके बाद चंद्रपुर के अपराध शाखा के पोलिस निरीक्षक बाळासाहेब खाडे के नेतृत्व मे मूल के ही 1 ) केतन अशोक बुटले और 2) तौहीद आरिफ शेख को धर दबोचा और इन दोनोक पोलिस रिमांड लिया गया !*
*इनके पाससे 1 ) 4 लाख रुपयोंकी लाल कल्हर की वरणा फोर व्हीलर जूनि कार क्र . MH 40 AC 6354*
*2 ) अपराध के समय इस्तेमाल की गई 2 लाख 25 हजार रुपयोंकी एक जूनि खाखी कल्हर की बुलेट मोटर साइकल क्र . MH 34 BS 8333*
*3 ) 1 लाख रुपयोंकी जूनि लाल कल्हर की मारोती 800 कार क्र. MH 31 Z 3789*
*यह सब उन लुटे गये रूपयोमेसे ही खरीदा गया था !फिर अपराध शाखा चंद्रपुर ने अदालत से इन लुटेरे अपराधियोंका पोलिस लेकर आगेकी जाँच की और एकऔर मास्टरमाईंड अपराधी जो जानारा के एक ढाबे पर घटना वाली रातको बैठा था उसे भी धर दबोचा गया था लेकिन वह बडीही चालाकीसे बीमारी का बहाना कर गिरफ्तारी से पुलिस रिमांडसे बच निकला था !*
*इस तरहसे चंद्रपुर की अपराध शाखा ने दिनेश गोयल के रुपयोंको लुटनेवाले लुटरे मूल से ही पकड़े लेकिन मूल के बडबोले डी बी स्कॉड वालों को घटना को दस माह बीत जानेपर भी कुछ नही मिल सका था ? कमाल तो यह है के घटना की वारदात की रिपोर्ट मूल थानेमें देनेके बाद मूल पुलिस ने सिर्फ भा द वी की 394 कलम लगाकर अपने हाथ झटक लिये थे ?*
*अभी हालहीमें इस प्रतिनिधिने मूल पुलिस से जनमाहिती अधिकार के तहत यह जानकारी मांगी थी के 2022 से आजतक मूल के डी बी स्कॉड ने मूल परिसर के अधिकार क्षेत्र में कितने जुवा सट्टा के अवैध गुटका, खर्रा , माजा ,नकली मीठी सुपारी के ,तंबाकू के केसेस पकडे है ?*
*लेकिन मूल पुलिसने पहले तो यह जानकारी देनेसे मना कर दिया था ! उसके बाद उपविभागीय पोलिस अधिकारी श्री मल्लिकार्जुन इंगळे साहब अपीलीय अधिकारी मूल के पास अपील करने के बाद फिर दिनांक 13 मार्च 2023 पत्र क्र . 796 / 2023 के जरिये मूल पुलिस स्टेशन से यह जवाब दिया गया के डी बी स्कॉड ने सट्टापट्टी की 5 केस जुआ की 3 और मांजा की 1 केस पकड़ी है !*
*इतना बडा डी बी स्कॉड और सट्टेकी 5 केस वहभी पूरे सालभरमे उसमेभी मजेदार बात यह है के मूल में सोहेल , मिलिंद , अतुल इन सट्टाकिंगों का हर दिन लाखोंका सट्टा बाजार चलता है यह नही पकड़े गये ? चिल्लर सटोरी वहभी पूरे साल भरमे सिर्फ 5 और जुआ वाले सालभरमे सिर्फ 3 और मांजा ( पतंग का ) सिर्फ 1 कमाल है खोदा पहाड़ निकला चूहा ? प्रतिबंधित अवैध गुटका खर्रा , नकली मीठी सुपारी ,तंबाकू माजा यह सब जो कैंसर जैसी महामारी जानलेवा बीमारी फैलाते हैं चंद्रपुर -बल्लारपुर – पोंभूर्णा के करोडोका अवैध गुटका खर्रा माजा कई ज़िलोंमें बेरोकटोक सप्लाई करनेवाले जयचंद – सुखराम , वसीम , सचिन गुप्ता जिनका विगत समय डूग्गीपार गडचांदूर में माल पकड़ा गया था अब बेरोकटोक जिलेभरमें अपने गुर्गों को पच्चीस पच्चीस लाख का अवैध माल उधार देकर घर घरमे महामारी फैला रहे हैं जिनका मूल शहर गढ़ बना हुवा है ! गुटका खर्रा माजा नकली मीठी सुपारी , तंबाकू बेचनेवाले कल तक कड़के थे ! एक तो हमाली करता था अब अवैध शराब कारमे पोंभूर्णा तक सप्लाई करनेके बाद उसी कार में पोंभूर्णा के ड्रग्स माफिया सचिन से गुटका खर्रा माजा के बक्से लाकर मूल परिसर में सप्लाई करता है ! सागर नामके गुर्गे के जरिये छुपाकर रखता है ! कलका हमाल आज ए सी में सोता है ! उसी तरहसे अनिल नामका वसीम का गुर्गा जिसकी छोटेसे झोपड़े में दुकान थी आज गुटका खर्रा माजा तंबाकू बेचकर मालामाल बन गया है करोड़ों की चल अचल संपत्ति का मालिक बन गया है यह भी अलगसे जाँच का विषय है ?*
*मूल शहरमे अनिल जेठ्या सागर ठाकुर , बाबू औरभी कई गुर्गे खुलेआम बेरोकटोक डी बी स्कॉड के नाकके निचे यह माल मूल शहरमे और आसपासके गांवोमे और इतनाही नही तो गडचिरोली तक सप्लाई कर रहे हैं ??? मांजा पकड़ा जाता है वह भी एक केस और थानेके पास ही बिकनेवाला गुटका खर्रा , माजा ,नकली सुपारी ,तंबाकू के बक्से पॉकेट नजर नही आते बाजार चौक के एक मालामाल बन चुके कथित लीडर से दो नंबरीयों और खाखी वर्दीधारीयों से याराना रिश्तोंमे ही सब राज छिपा है ? फिर मूल पोलिस स्टेशन के डी बी स्कॉड की क्या जरूरत रह जाती है ???*बडबोले जेठ्या और अनिल की कई जगह दो नंबरीयों के पास की गई बक बकसे यह राजकी अंदरखानेकी छिपी हुवी बात पता चली है के ” ड्रग्स माफ़िया जयचंद – सुखराम , वसीम , गुप्ता और सचिन ने मिलकर 20 लाख ( बिस लाख रुपये ) चंद्रपुर के कुछ अधिकारियों को अभी हालहीमें नगदी दिये हैं और अब हर माह बिस लाख का हप्ता देनेका फिक्स हुवा है ! ” बकौल अनिल और जेठ्या के फूड & ड्रग्स वालोंकी भी सेटिंग कर दी गईं है ” , उसी तरहसे जेठ्या और अनिल की ही जबानी बढाइयाँ मारनेसे यह भेद भी पता चला है के मूल मे भी इन ड्रग्स माफियाओं ने 4 लाख ( चार लाख रुपये ) पिछले हप्ते नगदी खुद पहोचाये है और हर माह चार लाख हप्ता देना फिक्स हुवा है ! उसी तरहसे कल दिनांक 1 अप्रैल 2023 को एक बड़े अधिकारी को 1 लाख ( एक लाख ) ❓उस अधिकारी के घर इन ड्रग्स माफियाने पहोचाया है यह बतभी जेठ्या और अनिल की जबानी राज फाश हुवा है ⁉️” बकौल जेठ्या -अनिल ड्रग्स माफ़ियाओने इन्हें कहा है के ❓ अब कोई भी हमारा कुछ नही करेंगा बेफिक्र माल बेचो कोई पत्रकार कुछ भी लिखे तो डरो मत जरूरत पड़ी तो हम बल्लारशाह के और चंद्रपुर के गुंडे भेजकर उनकी धुनाई करवा देंगे ⁉️*