मूल शहर में कई जगह फलफूल रहे है अय्याशों के अड्डे ?

49

*आसमान छूती महंगाई ,बेरोजगारी के चलते अपने शौक पूरे करने मजबूरन हो रही है सफेदपोश अय्याशोंकी शिकार*

*मूल शहर के बस स्थानक के पास ही मेन रोडसे लगकर ही एक बिल्डिंग में चंद्रपुर और आसपास के गांव की स्कूल ,कॉलेजों में अध्ययनरत लडकियोंको महंगे ड्रेस , ज्वेलरी, मोबाईल दिला देनेके प्रलोभन देकर कुछ मनचले टुविलर या फोर व्हीलर पर लाते हैं और उन लड़कियोंके साथ घँटे दो घँटे अय्याशियाँ करके वापिस चलते बनते हैं !*
इधर माता पिता को घरमे भनक तक नही लगती के लड़कियाँ कहाँ गई थी , वह समझते है स्कूल कॉलेज गईं होंगी ?लेकिन लडकियाँ साजिशों प्रलोभनों के चंगुल में फंसकर शहरसे बाहर मूल तक आती है ! जिस घरमे यह खेल चलता है वह घण्टे डेढ़ घँटे के हजार पंधरासौ रुपया हरएक से बटोरता है इस तरह उसकी दिनभरकी कमाई लगभग पचास साठ हजार रुपयों का माल बटोर लेता है !
इसी तरहसे मूल में भी वासना के अय्याशियोंके कई प्रकरण विगत कई महीनोसे सुर्खियों में है ! विगत समय ऐसाही एक प्रकरण पासके गांवके झाड़ियों झुंड़पोमे गांवके लडकोने रंगेहाथों पकड़ा था और छुपकर उनकी वीडियो तक बनाली थी !
जिसमे एक प्रतिष्ठित ब्यापारी के साथ नामांकित संस्थान मे सेवारत महिला रंगेहाथ पकड़े गये थे ! जिसमें वनविभाग के साथ कईयोने ब्लैकमेल करके ब्यापारी को लाखों का चूना लगाये थे !
इस स्कैण्डल का खामियाजा भुक्तभोगी महिला को और उसके परिवारको भुगतना पड़ा था ! वह परिवार मूल छोड़कर स्थानांतरित हो गया था और उस महिला की अच्छी नौकरी तक चली गई थी !
इसी तरह का एक सैक्स स्केंडल शहर के एक बड़े संस्थान के ब्यापारीका इन दिनों चर्चा में है ! इसका व्यवसाय पहले जहाँ था वहाँ पासमे ही रहने वाली एक महिला को इसने अपने जालमे फ़ांस लिया था और उसीसे इसके नाजायझ रिश्ते सालोंसे आजतक जारी है ! दबी जबानसे यह प्रकरण इन दिनों सुर्खियोमे है !
इतना ही नही तो समाजमे अपनेआपको धार्मिक नेक नमाजी दिखलाने वाले बाप बेटे की एक जोड़ी के अय्याशियोंके किस्से जगह जगह सुनाई दे रहे हैं !
*जबके इस्लाम मे अय्याशियाँ करना , पराई औरतोंसे नाजायझ अनैतिक संबंध रखना , जिनाखोरी करना महापाप कहा गया है और इस पापकी सजा दोजख , नर्क बतलाई गई है ! फिरभी बाप बेटे दोनों हरदिन अय्याशियाँ करनेमे जुटे रहते हैं !*
*बापके भी कई पराई औरतोंसे अनैतिक सम्बंध है ! इतना ही नही तो एक पासकेही गांव का एक शख्स जो इसिके पास काम करता है उसने खुद अपनी आपबीती इसिके घरके पास में ही रहने वाले व्यक्ति को बतलाई और कहा के ” मैं जब इसके पास कामपर आ जाता हूँ तो ये मेरे पीछे मेरे घर मेरी बीवी अकेली रहनेपर भी वहाँ रोज जाता है और उसके साथ इसके अनैतिक सम्बंध है ” !*
*तब उस पड़ोसिन उसको कहा के तू विरोध क्यों नही करता इसपर उसने कहा के ये मेरेको काम से निकाल देंगा इसलिये मैं चुप हूँ !*
*बाप से बेटा सवाई*
इस शख्स का बेटा भी अय्याशियोंके मामलेमें बापसे बढ़कर है ? बेटेके भी शहर में जगह जगह नाजायझ रिश्ते है ! जबके बेटा भी शादीशुदा और बालबच्चेदार होते हुवेभी कई जगह मुह मारता फिरता है !*
*इसनेभी एक शादीशुदा पराई महिला को अपने हवस के जालमे फंसा रखा है ! उस महिला के घर जब कोई नही होता तब यह तयशुदा टाईम पर उस महिला के घर पहोच जाता है ! इतनाही नही तो घंटे दो घँटे उसके घरमे रहकर मुह काला करके यह वहांसे चलता बनता है ! इसकी रोजमर्रा की यह हरकते कई प्रत्यक्षदर्शियों ने देखी है !*
*विगत समय मूल के मस्जिद में शुक्रवार को जुम्मा नमाझ के बाद यहाँ के मौलाना ने अपनी तकरीर ( प्रवचन ) में व्यभिचार जिनाखोरी अय्याशी के खिलाफ इस्लाम मे कितना खराब कहा गया है यह बात बतलाई थी तो इन दोनों बाप बेटे ने अपनी गर्दन निचे करके बगैर किसीसे आँखे मिलाये नमाझ खत्म होतेही वहांसे चलते बने थे ! नही तो ये बाप बेटे जुमा की नमाझ हो , ईदे मिलादुन्नबी हो या ईद बरात हो या संदल का जुलूस हो बडे नेक नमाजी होनेकी नौटंकी करते थे और जुलूसों में बडे घमंडसे गुरुर के साथ आगे आगे दिखाई देते थे ! जबसे बाप बेटे के पापोंसे पर्दा उठा है और क्या औरत क्या आदमी दबी जुबान से इन जिनाखोरों की बाते कानाफूसी करने लगे हैं इनकी बोलती बंद सी हो गई है ⁉️अभी तो और कईयों के राज प्याज की परतों की तरह धीरे धीरे खुल रहे हैं !*
*यह कहना गलत नही होंगे के , मोबाईल ,व्हाट्सएप फेसबुक संस्कृति के चलते कई परिवार बिगड़ रहे हैं और अय्याश व्यभिचारी लोग इस महंगाई बेरोजगारी गरीबी लाचारी का नाजायझ फायदा उठाकर अपनी गंदी वासना का कइयों को शिकार बना रहे हैं और कई घरोंमें छेद कर रहे हैं !*