मूल मे निर्माणाधीन मालधक्का जनआक्रोश को देखते हुवे पालकमंत्री के निर्देशानुसार शहरसे बाहर ना चला जाये ? परदेके पीछे इस साजिश को अंजाम देने कई अतिचर्चित दलाल टाईप बिकाऊ छुटभय्योने लाखों बटोरे⁉️

339


*मालधक्का मूल में ही बनाये जानेके लिये स्वाक्षरी अभियान जारी!*

 

गडचिरोली जिलेके सुरजागड प्रकल्प से निकाले जाने वाले कच्चे लौह खनिज के डंपिंग के लिये पता नही रेल्वे अधिकारियोंने किसके इशारों पर मूल शहर के रेल्वे स्टेशन का चयन किया गया था !
इस स्टेशन के पास ही खेलके मैदान के निकट ही मालधक्के का निर्माण किया जाने वाला था ! जिसके कारण सुरजागड से हर दिन सैकडों ट्रकोमें कच्चा लौह खनिज भरकर लाये गये रहते और उसे यहां के मालधक्के के पास उतारा जाता ! लौह खनिज की डस्ट चुरा यहां के वातावरण में फैलकर उसे प्रदूषित करता औरसैकडों ट्रकों के शहर के बीचसे दौडने से भयानक हादसे होते सो अलग ! सुरजागड प्रकल्प में ही काम करनेवाले कई मजदूर लौह कनोसे डस्ट से गंभीर बीमारियोंसे जूझ रहे हैं यह किसीसे भी छिपा नही है !
यह बात मूल के जागरूक नागरिकों , महिलाओं , बच्चे बूढों को , विद्यार्थियों को और शहर की जानीमानी संघर्षशील संगठनों को पता चलतेही मूल में सर्वपक्षीय मोर्चा तक निकाला गया था! जिसमे शहरके ब्यापारियों से लेकर बच्चे बूढे , महिलाएं , विद्यार्थी , विभिन्न राजनैतिक दलोंके नेता तक शामिल हुवे थे ! दूसरे दिन राष्ट्रवादी कॉंग्रेस ने भी मोर्चा निकाला था !
जिलेके पालकमंत्री सुधीर मुनगंटीवार को तथा आलाअधिकारियोंको शिष्टमंडल ने मूल में मालधक्का नही बनाया जाये इस माँगको लेकर निवेदन दिया गया था !
उसके बाद मुनगंटीवार ने नागपुर के वन भवन में जिलाधिकारी चंद्रपुर अजय गुल्हाने ,रेल विभाग के आला अधिकारी , वरिष्ठ विभागीय प्रबंधक गर्ग , मुख्य वन संरक्षक चंद्रपुर , चंद्रपुर की पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष , पूर्व पं स . सभापति चंदू मारगोंनवार, अजय दुबे , भाजपा शहर अध्यक्ष भोयर ,चंद्रकांत आष्टनकर , अजय गोगुलवार , प्रशांत बोबाटे , नामदेव डाहुले आदि शामिल थे !
पालकमंत्री मुनगंटीवार ने रेलवे के आला अधिकारियों को निर्देश दिये थे कि यह मालधक्का मूल शहर से बाहर स्थानांतरित किया जाये ! जिसके बाद यह तय हुवा थाके जगह का निरीक्षण किया जायेगा और योग्य निर्णय लिया जायेगा !
मूल के एक संघर्षशील सामाजिक संगठन ने अपने न्यूज़ पोर्टल से यह भंडाफोड़ किया है कि ” मालधक्के का मूल में ही निर्माण करवाने कुछ कथित नेताओंने पचास लाख रुपये लिये है , जनता की भावनाओंसे खेलकर कथित नेता अपना घर भर रहे है! ” यह खुला आरोप प्रसिद्ध सामाजिक संगठन के समाचार में लगाये जानेसे चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है !
हमारी खोजी टीमको पता चला है कि , यहाँ के मुनगंटीवार विरोधी माल सुतनेमे माहिर दल्लेगिरी करके मालदार बन चुके कई मगरमच्छ जिसमे भाजपा समेत कई राजनैतिक दलोंके सामाजिक संगठनोंके कथित नेताओने परदेके पीछे रहकर लाखों डकारकर कुछ छुटभय्योंको आगे रखकर मूल शहर की जनता को खासकर गरीब मजदुरपेशा लोगोको बरगलाया जा रहा है के मूल में मालधक्का आनेसे सैकड़ों गरीबोंको रोजगार मिलेंगा ऐसा सफेद झूठ प्रचारित कर मालधक्के का मूल में ही निर्माण करवाने स्वाक्षरी अभियान चलाया है !
इसमें मजेदार बात यह भी है कि एक तरफ मालधक्का विरोधी मोर्चे में शामिल होकर भी पर्दे के पीछे मालधक्का मूल में ही बनाया जाय यह कहनेवालों को मिले लाखों रुपयों में भी मलाई डकारे जानेकी जनचर्चा है !
इन लाखों डकारने वालोंका असल मकसद इस मालधक्के कि साजिश की आडमे विरोधियोने मुनगंटीवार को आगामी नगर परिषद चुनाव में और आगे होनेवाले विधानसभा चुनाव में सुधीर मुनगंटीवार को धक्का देनेकी साजिशों को अंजाम देनेके षडयंत्र रचे है !