गरीबों ,मज़दूरपेशां ,मध्यमवर्गियों के दुख दर्दों को समझनेवाला ऐसाभी एक राजनेता!

149

 

*सुधीर मुनगंटीवार ने बेतहाशा गर्मी के चलते प्यास बुझाने बांटे पांच -पांच लीटर वाले मिल्टन के वॉटर केन, गरिब प्यास बुझाकर दे रहे है दुवाएँ!*
*ब्यूरो चीफ अशरफभाई मिस्त्री✍️✍️✍️*

कई राजनेताओं को तो सिर्फ खुदके विधानसभा – लोकसभा चुनावों में जब वह बतौर उम्मीदवार खडे रहते है तब रुपया पैसा तथा दीगर सामग्रियां बांटते अक्सर देखा जा सकता है !
कई नेता तो चमडी जायें पर दमडी ना जाये की तर्जपर चलते है लेकिन अपने घर भरनेमे उन्हें महारथ हासिल होती है ! सत्ता हासिल होनेपर उनकी चल -अचल संपत्तियोंके साथ उनका शारीरिक ढाँचा भी आडा खडा बढ गया लेकिन गरीबों दिन दुखियोंके लिये उनका दिल नही पसीजता ?
कोरोना की लाटमे कइयोंके कारोबार व्यवसाय तबाह हो गये थे लेकिन कई राजनेता लाखोंकी कमीशनखोरी के चलते मालामाल बन बैठे कोरोना महामारी नही बल्कि उनके लिये करोडों का बंपर ड्रा साबित साबित हो गया था ! ऐसे भी नेताओंकी चर्चा रही थी जिनके इशारोंपर कोरोना काल मे रेमसीड इंजेक्शन आंध्रा तेलंगाना बॉर्डर पर चालीस हजार , बेचालिस हजार रुपये प्रति इंजेक्शन के हिसाबसे इंसानियत को मानवता को तिलांजलि देकर ब्लैक में बेचा गया था और लाखों सुते गये थे !
इतना ही नही तो ऐसे भी राजनेता दिखाई दिये जो जिलेमें शराब बंदी रहते समय जिलेके अवैध शराब बिक्रेताओं को अवैध शराब बेचने के लिये एरिया तक बाटें गये थे और शराब बेचनेकी खुल्ली छूट दिलवाकर उनसे हर दिन का लाखों रुपया वसूला जाता था !
इतनाही नही तो अवैध शराब बिक्रेताओं को शराब के बक्से भी नेताजी के बतलाई गई जगहसे ही शराब के हजारों बक्से हर दिन बिक़त लेने होते थे !?
शराब बंदी उठाते वक्त तो करोड़ों के नोटोंके बंडलोंकी मानो आसमानसेही वर्षाहि हुई थी ! इस बहती गंगा में तो निचेसे उपरतक कइयोंने हाथ धो लिये थे !
लेकिन चिलचिलाती धूप हो गर्मी हो ? या कडकडाती ठंड हो ? या बारिश हो ? गरीबों , बेसहारा बेवाओं , निराधारो , मध्यमवर्गियों की सुध लेने इन राजनेताओं को समय ही कहाँ था ?
लेकिन बल्लारपुर -मूल क्षेत्र के विधायक , पूर्व मंत्री , लोकलेखा समिति प्रमुख सुधीर मुनगंटीवार इनसब से बिरले निकले ! इस सालकी चिलचिलाती धुपमे मुनगंटीवार ने खुदके निर्वाचन क्षेत्र के बल्लारपुर , मूल , पोंभुर्णा आदि गाँवोंमें गरीबों ,बेसहारा मज़दूरपेशा ,मंझोले व्यवसाइयों , ऑटो चालकों , ट्राली वालों , चिल्लर सब्जी विक्रेताओं को मिल्टन कंपनी के पांच – पांच लीटर के वॉटर केन बटवाकर गरीबोंकि दुवाएँ ली !
इतनाही नही तो सुधीर मुनगंटीवार ने विगत बारिश के मौसम मे छत्रियों का वाटप करवाया था और ठंडी के मौसम मे ब्लेंकेट्स , औऱ स्वेटर्स का वाटप करवाकर बारिश – ठंडी – गर्मी के मौसम में बेसहाराओंके कुछ हदतक सहारा बने थे !
उसी तरह कैंसर रोग निदान शिबिर और नेत्र चिकित्सा शिबिर का आयोजन हालहीमें किया था! जिसमे हजारों लोगोंने इस शिबिर का लाभ उठाया था !
जिसके चलते हजारों जरूरतमंद गरीबों के दिलोंसे मुनगंटीवार के लिये दुवाएँ निकलती है !