श्रमिक कॉलोनी के आवासों की बिक्री प्रक्रिया शुरू करने की मांग

14


मालिकाना अधिकार के लिए धरना-विरोध-प्रदर्शन जारी

नैनी, प्रयागराज।
श्रमिक कालोनियों के आवासों का मालिकाना अधिकार दिए जाने की मांग को लेकर श्रमिक बस्ती, नैनी स्थित मानस पार्क में आज कॉलोनी के निवासियों ने धरना विरोध प्रदर्शन करते हुए जुलूस निकाला, नारेबाजी की और मालिकाना अधिकार दिए जाने हेतु सरकार से बिक्री प्रक्रिया शुरू करने की मांग की गई।
श्रमिक बस्ती समिति द्वारा धरना स्थल पर आयोजित सभा को संबोधित करते हुए समिति के महासचिव विनय मिश्र ने कहा कि श्रमिक बस्ती के आवासों में पिछले 60 से 70 वर्षों से लोग रह रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के कार्यकाल में श्रमिक बस्ती के आवासों की बिक्री प्रक्रिया शुरू की गई थी। लेकिन उत्तर प्रदेश श्रम विभाग के अधिकारियों ने रोक दिया। अन्य राज्यों के श्रम विभागों ने वहां की कालोनियों का मालिकाना अधिकार उसमें रहने वालों लोगों को दे दिया है। लेकिन उत्तर प्रदेश श्रम विभाग पिछले 43 वर्षों से इस मामले को लटकाए हुए हैं। जिसकी वजह से उत्तर प्रदेश के नैनी, प्रयागराज, लखनऊ, कानपुर, गाजियाबाद समेत कई जिलों में स्थित श्रमिक कॉलोनी के आवासों में रहने वाले लाखों लोग संशय की स्थिति में जी रहे हैं।
महासचिव विनय मिश्र ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री समेत संबंधित मंत्रियों और अधिकारियों को पिछले हफ्ते रिमाइंडर पत्र भेजा गया है।
कार्यक्रम की अध्यक्षता समिति के अध्यक्ष मोहम्मद शाहिद ने की। सर्वश्री नंद किशोर मिश्र, उमानंद मिश्र, सभाजीत यादव, जगबरन सिंह, शिशु त्रिपाठी, लक्ष्मी नारायण गोपाल, ओमप्रकाश सिंह, सत्येंद्र यादव, श्रीमती अरुणा पांडे, अंजू गुप्ता, माया देवी, शारदा सिंह, कमला देवी, फूल कुमारी, आरती कुशवाहा, अल्का मिश्रा, पुष्पराज सरोज, पुष्पा राय आदि उपस्थित रहे।