बल्लारपुर वासियों की मदद लिए एक बार फिर दौड़े आए पालक मंत्री सुधीर भाऊ

15


*गोल पुलिया निर्माण कार्य हेतु सर्व मान्य हल निकला. ! *

बल्लारशाह रेलवे स्टेशन की गोल पुलिया बंद को लेकर बल्लारपुर वासियों होनेवाली परेशानी ध्यान में आते ही *पालकमंत्री श्री सुधीरभाऊ मुनगंटीवार* ने प्रशासन को हरसंभव सहयोग करने के तत्काल आदेश दिए ! उन्हीं के निर्देश पर आज एसडीओ कार्यालय में *एसडीओ श्रीमती मानसी* की अध्यक्षता में *तहसीलदार डॉ. कांचन जगताप,मुख्याधिकारी विशाल वाघ, पुलिस निरीक्षक उमेश पाटिल,मध्य रेलवे थर्ड लाईन प्रोजेक्ट कार्य.अभियंता नवीन शर्मा, आरपीएफ इंस्पेक्टर सुनील कुमार पाठक,वेकोली कार्मिक प्रबंधक शब्बीर खान तड़वी* की मौजूदगी में बैठक सम्पन्न हुई !
*भाजपा कामगार मोर्चा महाराष्ट्र प्रदेश उपाध्यक्ष एवं NRUCC मेंबर अजय दुबे* की पहल से हुई इस बैठक में *वरिष्ठ व्यापारी रामधन सोमानी,अजय दुबे,बल्लारपुर बिजनेस एसोसिएशन अध्यक्ष नरेश मूंधड़ा, केबल ऑपरेटर प्रतिनिधि धर्म प्रकाश दुबे,भाजयुमो जिला संगठन महामंत्री मिथिलेश पांडे बस्ती व्यापारी मंडल अध्यक्ष राजू मूंधड़ा,सराफा एसोसिएशन अध्यक्ष दीपक कड़ेल , राकेश ठमके, मूंधड़ा* प्रमुख रूप से उपस्थित थे !
उल्लेखनीय है कि गोल पुलिया पर एक और पुल निर्माण हेतु रेल प्रशासन ने इसे दस दिनों तक बंद करने की एकतरफा घोषणा की थी ! जिससे पूरा शहर बुरी तरह प्रभावित होता !
*एसडीओ श्रीमती मानसी* ने रेल और स्थानिक प्रशासन को निर्देश दिया कि इस कार्य में आम नागरिकों को कम से कम परेशानी न हो इस बात का विशेष ध्यान रखा जाय !
बैठक में यह सुनिश्चित किया गया कि वैकल्पिक मार्ग मरम्मत होने के बाद ही गोल पुलिया का कार्य शुरू होगा !
22 जनवरी को श्रीराम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा और 26 जनवरी गणतंत्र दिवस कार्यक्रम के मद्देनजर गोल पुलिया दिन भर शुरू रहेगी,नगर परिषद और रेल प्रशासन संयुक्त रूप से मार्ग दुरुस्ती,और प्रकाश व्यवस्था करेंगे,और यातायात व्यवस्था पुलिस विभाग सुचारू रखेगा,रेल प्रशासन ने यह आश्वस्त किया कि केबल टीवी वायर क्षतिग्रस्त न हो इसका ध्यान रखा जाएगा ताकि श्रीराम मंदिर और गणतंत्र दिवस कार्यक्रम लोग टीवी पर अबाधित देख सकें.गोल पुलिया पर नई पुलिया निर्माण हेतु दस दिनों तक इसे बंद करने के रेल प्रशासन के एकतरफा निर्णय की व्यापारी मंडल ने आलोचना करते हुए कहा कि सभी शासकीय विभागों और व्यापारियों की संयुक्त बैठक के पश्चात ही कोई निर्णय लिया जाना चाहिए था !