हमारे न्यूज पोर्टल मे और साप्ताहिक राष्ट्रपत्रिका मे जयसुख -वसीम -गणेश और सचिन इन गुटका खर्रा माफ़ियाओंके और उनके गुर्गे रामलखन -जेठ्या के खिलाफ लगातार पिछले कई महीनोसे समाचार छापने के बाद ज़िलेका पोलीस विभाग नींद से जागा और कई जगह छापेमारी करके लाखोंका गुटका खर्रा जब्त किया ! लेकिन फूड & ड्रग्स विभाग वाले अभीभी कोमा मे ?ही पडा है !?

26

**

 

चंद्रपुर जिलेके अवैध प्रतिबंधित जानलेवा गुटका , खर्रा , माज़ा , तंबाकू , नकली मीठी सुपारी का करोडों का कारोबार करने वाले जयसुख -वसीम , गणेश और सचिन इन सरगना माफियाओंका माल चंद्रपुर जिलेके हर गाँवो के तहसीलों के शहरोंके गलीकूचों में सरेआम बेचा जा रहा है !इसके अलावा विदर्भ के ४ – ५ जिलोमे भी यह कैंसर जैसी खतरनाक जानलेवा बीमारी फैलाने वाला माल करोडों रुपयोंका बेरोकटोक पहोंचाया जा रहा है !
* हमारे न्यूज पोर्टल पर और साप्ताहिक राष्ट्रपत्रिका मे जयसुख -वसीम -गणेश और सचिन इन गुटका खर्रा माफ़ियाओंके और उनके गुर्गे रामलखन -जेठ्या के खिलाफ लगातार पिछले कई महीनोसे समाचार छापने के बाद ज़िलेका पोलीस विभाग नींद से जागा ! लेकिन फूड & ड्रग्स विभाग वाले अभीभी कोमा मे ही है ?*
*विगत सप्ताह गडचांदुर , राजुरा , बल्लारशाह , चंद्रपुर , वरोरा तहसील के खांबाळा में कई दुकानों से अवैध प्रतिबंधित लाखों रुपयोंका गुटका खर्रा पोलिस विभाग के अधिकारियोंने जब्त किया ! लेकिन अचरज भरी बात यह है कि उनका पोलिस कस्टडी रिमांड क्यों नही लिया गया ?*
*अगर इन सबका पोलिस कस्टडी रिमांड लिया गया होता तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाता ? इनको यह लाखोंका जानलेवा प्रतिबंधित माल सप्लाई करनेवाले बेनकाब हो जाते !*
*जयसुख -वसीम , गणेश और सचिन के गुर्गे रामलखन और जेठ्या सरेआम कहते फिरते हैं जयसुख भाई के पास कई अधिकारियों के लेनदेन की बातोंके ऑडियों है ? हमारा कोई कुछ नही बिगाड सकता ऐसे बोलबचन रामलखन और जेठ्या सरेआम करते हैं ?इतना ही नही तो देख लेने की घमंडभरी भाषा का इस्तेमाल यह गुर्गे करते फिरते है ? आखिर इस का राज क्या है ? जयसुख और वसीम रामलखन और जेठ्या के ही जरिये इस अवैध प्रतिबंधित गुटका खर्रा के लाखों रूपयोंके बक्से जगह जगह कई जिलोमे पहोचाने का काम करते हैं !*
*इतना ही नही तो विश्वसनीय सुत्रोंसे पता चला है कि जयसुख और यह चौकडी यह गुटका खर्रा आजकल नकली बनवाकर पन्नियों , पॉंऊंचो में पैक करवाकर भी बड़े पैमाने पर सप्लाई कर रहे हैं !*
*उसी तरहसे यह भी चर्चा है कि कोई एक कथित पत्रकार जो जिलेके सभी विभागोंके आलाधिकारियों के साथ किसीभी सामाजिक , धार्मिक मिलन के कार्यक्रमो में उनके साथ बैठकर गलेमें हारतुरे डलवाकर अपनी फोटो उन आलाधिकारियों के साथ खिंचवाकर फिर उन फोटोको व्हाट्सएपो पर वायरल करके समाचारपत्रोंमे पब्लिश करवा कर सभी विभागों के आलाधिकारियोंसे अपनी निकटता होने की नौटंकी करता है और अपनी दुकानदारी चलाता है ? ” उसकी आडमे उन अधिकारियों से खुदके घनिष्ठ याराना संबंध बतलाकर कई अवैध कारोबारियों से दो नंबरीयोंसे उनके काम करवा देनेके उनके अवैध कारोबार पर रेड नही पडने देनेके नामपर मोटा माल लाखोंका हप्ता उनसे वसूलता रहता है !*
*चंद्रपुर जिलेके हर गांवों , शहरों , तहसीलों के हर गलीकूचों में और विदर्भ के कई जिलोमे करोडों रुपयों का अवैध प्रतिबंधित जानलेवा गुटका खर्रा माज़ा का कारोबार सरेआम बेरोकटोक करनेवाले चंद्रपुर जिले के जयसुख – वसीम , गणेश -सचिन और उनके गुर्गे पुलिसवालों की और फूड & ड्रग्स वालोंकी पकडसे बाहर होनेका आखिर राज क्या है ?*