चंद्रपुर का गुप्ता बना जानलेवा प्रतिबंधित नकली मीठी सुपारी , गुटका, खर्रा, माजा के लाखोंके कारोबार का बेताज बादशाह!?

60

 

 

*चंद्रपुर शहर का अतिचर्चित गुप्ता विगत दो चार वर्षोंसे प्रतिबंधित जानलेवा नकली मीठी सुपारी , गुटका , खर्रा , माजा का दो नंबरी कारोबार बगैर किसी रोकटोक के चंद्रपुर शहर के रामनगर पोलिस स्टेशन के एरिया में ही यह दो नंबरी कारोबार कर रहा था । तब गुप्ता का यह प्रतिबंधित माल चंद्रपुर के हर वार्ड में और बाबुपेठ , घुग्गुस तक बेचता था ! लेकिन ना तो किसीभी पोलिस स्टेशन ने या फूड & ड्रग्स विभाग ने इसपर कोई कार्रवाही नही की और ना ही इसका यह प्रतिबंधित माल कभीभी जब्त नही किया गया !*
*इसी तरहसे रैयतवारी कॉलरी रोड पर गणेश गुप्ता भी कई सालोंसे यह सब जानलेवा प्रतिबंधित माल सरेआम बेचता था , रैयतवारी रोड का इलाका रामनगर पोलिस स्टेशन के क्षेत्र मे आता है लेकिन रामनगर पोलिस विभाग ने कभीभी गणेश गुप्ता को गिरफ्तार नही किया था!*
*इतना ही नही तो चंद्रपुर के फूड & ड्रग्स विभाग के आला अधिकारियोंने भी जानलेवा प्रतिबंधित अवैध गुटका , खर्रा , मीठी सुपारी , माजा का लाखों का कारोबार सरेआम करनेवाले गणेश गुप्ता को पकड़ना जरूरी नही समझा था !*
*रामनगर पोलिस स्टेशन वालों को चंद्रपुर के तुकुम ( दुर्गापुर – ताडोबा रोड पर ) वार्ड के रास्ते के किनारे सब्जी भाजी , फल फ्रूट विक्रेता , चाय – नाश्ता टपरीवालों गरीब व्यवसायियों को बिलावजह परेशान करने और उनकी रोजी रोटी का रोजगार गैरकानूनी ढंगसे बंद करवाने के लिये उन गरीबों की दुकानें नही लगवाने देने के लिये समय है लेकिन दो नंबर के प्रतिबंधित अवैध सामग्री खुलेआम बेचने वालों को पकडने के लिये समय ही नही है ? आखिर इसकी क्या वजह हो सकती है ?*
*वही गणेश गुप्ता जब छत्तीसगढ़ से लाखों रुपयोंका यह प्रतिबंधित गुटका , तमाकू , मीठी सुपारी , माजा आदि अवैध सामग्री ट्रक में भरकर चंद्रपुर ला रहा था तो डुग्गीपार के पोलिस स्टेशन क्षेत्र से जब वह ट्रक पास हो रहा था तब डुग्गीपार पोलिस ने वह लाखों रुपयोंका अवैध माल से भरा हुवा ट्रक रंगे हाथों धर दबोचा था और लाखोंके मालके साथ वह ट्रक भी जब्त किया था और आरोपीयोंको भी गिरफ्तार किया था !*
*अब रामनगर पोलिस स्टेशन क्षेत्र के एरिया मे ही कोई गुप्ता नामक दो नंबरी शख्स वही प्रतिबंधित गुटका , खर्रा , मीठी सुपारी , माज़ा , तमाकू जानलेवा अवैध माल का लाखों रुपयोंका कारोबार पूरे चंद्रपुर जिलेके हर छोटे बडे शहरों के साथ ही गडचिरोली जिलेके , यवतमाल जिलेके कई शहरों में डग्गा गाड़ियों से लाखों रुपयोंका माल सरेआम सप्लाई कर रहा है !*
*इतनाही नही तो गुप्ता का यह जानलेवा अवैध प्रतिबंधित गुटका , खर्रा , तमाकू , माजा मूल के ही रास्तेसे छत्तीसगढ़ से और नागपुरसे सरेआम ट्रकोंमें भरकर और उस अवैध सामग्री के उर पोहा मुरमुरे के कट्टे रखकर चंद्रपुर पहोच रहा है !*
*रास्तेमें आनेवाले कई पोलिस स्टेशन के एरिया क्रास करते हुवे और हर हाईवे रोड के राज्यमार्ग के टर्निंग पाइंटों पर रास्तेमें पड़ने वाले जंगलो के कई मोड़पर ट्रैफिक पुलिस वालों के जथ्थे खड़े रहते हैं , लेकिन फिरभी गुप्ता का अवैध प्रतिबंधित जानलेवा यह लाखोंका माल बेरोकटोक चंद्रपुर के गुप्ता के अड्डेपर सुरक्षित पहोच जाता है यह भी आश्चर्य चकित करने वाली बात है ? इसकीभी आलाधिकारियों ने गंभीरता से जाँच करना चाहिये , और फिर छोटी डग्गा चार पहिया वाहनों से गुप्ता चंद्रपुर जिलेके – गडचिरोली जिलेके – यवतमाल जिलेके कई छोटे बड़े शहरोंमें यह माल बेरोकटोक सुरक्षित पहोचा देता है ?*
*- गुप्ता के बोलबचन मेरा कोई भी कुछ नही उखाड़ सकता !? -*
*गुप्ता सरेआम गिदडभपकी भरे लहजे में यह कहते सुना गया है के ” मैं यह माल बेचकर अकेला नही खाता रामनगर थाने मे एल सी बी वालोंको और फूड ड्रग्स वालोंको , समाचार वालोंको भी उनका हिस्सा खिलाता हूँ ! इसलिये कोई कितना भी चिल्लाये मेरा कोईभी कुछ नही उखाड सकता” !*
*गुप्त सुत्रोंसे पता चला है कि किसी एक नेता को हर माह गुप्ता 5 लाख रुपया देता है और वही कथित नेता गुप्ता के लिये भागदौड करता है और वही सभी को सँभालता है !*
*क्या पोलिस विभाग के अपराध शाखा के और फूड &” ड्रग्स विभाग के आला अधिकारी और महाराष्ट्र शासन इस अवैध जानलेवा प्रतिबंधित सामग्री बेचने वाले और लोगोंकी जिंदगियो को गंभीर बीमारियों की आगमें झोंकने वाले माफिया बेताज बादशाह गुप्ता के कारोबार पर लगाम लगाकर उसे सलाखोंके पीछे पहोचाएँगे ?*