मूल के तहसीलदार डॉ. रविंद्र होळी का स्तुत्य उपक्रम!

217


*उच्च शिक्षण लेनेवाले होनहार छात्र -छात्राओंका उत्साह बढ़ाने उन्हें सुवर्ण पदक प्रदान करने अपने स्वर्गीय माता – पिता के नामसे गोंडवाना विद्यापीठ को दिया तीन लाख रुपयोंका धनादेश !*

ब्यूरो चीफ :-अशरफ भाई मिस्त्री✍️✍️✍️

मूल के तहसीलदार डॉ . रविंद्र होळी ने शैक्षणिक सत्र २०२१ – २०२२ के गोंडवाना विद्यापीठ की बी एस सी के अंतिम वर्ष में अनुसूचित जमात के प्रवर्ग की ,छात्रा जो गुणानुक्रम से प्रथम आई है उसे अपनी स्व. माता मंजुळाबाई साधुजी होळी के नामसे स्वर्ण पदक देनेके लिये १ लाख ५० हजार रुपये और बी एस सी विज्ञान , मानवतावादी विषय मे प्रथम आनेवाले विद्यार्थी कोअपने स्व . पिता साधुजी पाटील होळी के नामसे स्वर्ण पदक देने के लिये १लाख ५० हजार रुपये इस तरहसे कुल ३ लाख रुपयोंका धनादेश गोंडवाना विद्यापीठ गडचिरोली के कुलगुरु डॉ .प्रशांत बोकारे के स्वाधीन किया!
डॉ . रविंद्र होळी ने बतलाया कि , आर्थिक समस्याओंके चलते उनके पिता स्व.साधुजी पाटील होळी का शिक्षण सिर्फ चवथि कक्षा तक ही हुवा था ! वे चाहते हुवेभीआगेकी पढ़ाई नही कर सके थे !
लेकिन उनके पिताजी की इच्छा यही थी के परिवार के सभी भावी पीढिके सदस्य उच्च शिक्षण हासिल करें ! अपने स्वर्गीय माता – पिता की उन्ही उच्च शिक्षण हासिल करने की इच्छाओं को अमली जामा पहनाने के दृष्टिकोण को ध्यानमे रखते हुवेही तहसीलदार डॉ .रविंद्र होळी ने समाज के होशियार विद्यार्थी – विद्यार्थिनीयों का उत्साह बढ़ाने ताके वहभी स्पर्धात्मक ढंगसे उच्च शिक्षा हासिल करें और समाजका नाम ऊंचा कर सके इसी उद्देशके चलते उन्हें अपनि स्वर्गवासी धनादेश गोंडवाना विद्यापीठ के कुलगुरु डॉ .प्रशांत बोकारे के स्वाधीन करते वक्त तहसीलदार डॉ . रविंद्र होळी के चाचा विधायक डॉ. देवराव होळी ,प्रो.डॉ. नरेश मडावी , डॉ .कावळे , चलाखजी आदि उपस्थित थे !
इस समय डॉ .रविंद्र होळी ने कहा कि अनुसूचित जन जाती के जो विद्यार्थी आर्थिक तंगियों के चलते आगेका उच्च शिक्षण नही ले पाते हैं ऐसे पाँच ५ विद्यार्थियों को वे भविष्य में उच्च शिक्षण लेने मदत करेंगे !
आजके युग मे अपने जन्मदाता माता पितासे क्रूरतापूर्ण व्यवहार करनेवाले उन्हें वृद्धाश्रमों में छोड़कर आने वाले संतानों की दुनिया मे कोई कमी नही है ! ऐसे दौरमे अपने स्वर्गवासी माता -पिता की यादमें समाजके होनहार छात्रों को प्रोत्साहन देने लाखों रुपयों की आर्थिक मदत करनेवाले मूल के तहसीलदार डॉ . रविंद्र होळी की सभी तरफ सराहना की जा रही है ! गोंडवाना विद्यापीठ के कुलगुरु डॉ . प्रशांत बोकारे ने तीन लाख रुपयोंका धनादेश देनेपर डॉ . रविंद्र होळी का आभार व्यक्त किया !